India

कर्क वार्षिक राशिफल 2023

नए साल 2023 के आने में अब कुछ ही दिनों का फासला बचा है। नया साल 2023 सभी के लिए नई उम्मीदें, नए सपने, नया लक्ष्य और चुनौतियों से रूबरू होने का साल होगा। नया साल 2023 सभी के जीवन में ढेर सारी उम्मीदें लेकर आने वाला वर्ष होगा। सभी यह सोचते हैं कि बीते साल जो हमारे काम अधूरे रह गए हैं, वे आने वाले नए साल में जरूर पूरे हों।

नए साल पर करियर में एक नया मुकाम हासिल हो, जीवन में पैसे से संबंधित सभी तरह की बाधाएं आने वाले साल में न रहें और अपनों का प्यार नए साल में मिलता रहे ऐसी उम्मीदें रखते हैं। हम सभी लोगों के मन में आने वाले नए साल में नौकरी, बिजनेस, धन-दौलत, ऐशोआराम, शिक्षा, प्यार और सेहत कैसा रहेगा, इस बात को जानने की उत्सुकता हमेशा रहती है। इन सभी सवालों के जवाब को जानने के लिए ज्योतिष शास्त्र के माध्यम से वार्षिक राशिफल की मदद ली जाती है।

वार्षिक राशिफल (Varshik Rashifal 2023) में आने वाले वर्ष की भविष्यवाणी की जाती है, जिसमें जातकों की राशि के आधार पर नया वर्ष उनके लिए क्या संकेत दे रहा है जैसे कि- नए वर्ष में करियर कैसा रहेगा ? वित्तीय मामलों में आपके पास पैसे आएंगे या खर्च का बोझ बढ़ेगा? ग्रहों की चाल से आपका भाग्योदय होगा कि नहीं? लव लाइफ में रोमांस रहेगा या फिर परेशानी? परिवार में सभी सदस्यों के साथ आपका व्यवहार कैसा होगा?

कर्क राशिफल 2023

कर्क राशि के जातक स्वभाव से दृढ़-निश्चय वाले होते हैं। यह लोग बहुत भावकु और कल्पनाशील होते हैं। इनके अंदर भाषा और संवाद कौशल के खास गुण होता है। इनका दिमाग बहुत तेज चलता है लेकिन यह लोग स्वभाव से काफी चंचल होते हैं। कुछ मामलों में इनमें आध्यात्मिक गुण भी होते हैं। इनकी यादाश्त काफी तेज होती है। यह स्वभाव से बेहद सरल, संवेदनशील और दयालु होते हैं।

करियर

करियर कार्य के हिसाब से यह वर्ष कुछ बेहतरीन होने वाला है। देव गुरु बृहस्पति भाग्य भाव में अप्रैल तक आपके हर कार्य में सहायक होते नजर आ रहे हैं । 17 जनवरी से शनि का गोचर आपकी राशि से अष्टम भाव पर होगा एक तरफ शनि की ढैया की शुरुआत तो दूसरी तरफ कुछ नई संभावनाएं भी शनि के अष्टम गोचर से आपको मिलेंगी। राहु और केतु का गोचर पहले से ही कुछ परिवर्तन की संभावनाएं दे रहा है।

अप्रैल के बाद जैसे ही देव गुरु बृहस्पति का प्रवेश मेष राशि पर होगा। कार्य से संबंधित कुछ सावधानियों का समय शुरू हो जाएगा। शनि के अष्टम भैया भी यह संकेत करती है कि जल्दबाजी में कोई निर्णय न लिया जाए। नौकरीपेशा लोग अगर स्थानांतरण के प्रतीक्षा कर रहे हैं तो शनि का गोचर उनके लिए लाभदायक साबित होगा। मनपसंद जगह पर स्थानांतरण हो सकता है लेकिन नौकरी में कड़ी मेहनत से ही अच्छे परिणाम मिलेंगे या भी संकेत मिलता है।

परिवार

राहु और केतु पिछले कुछ समय से आपके परिवारिक जीवन में कुछ उथल पुथल का वातावरण बना कर रखे हुए हैं। अप्रैल के बाद जैसे ही देव गुरु बृहस्पति का गोचर मेष राशि में पहुंचेगा परिवारिक जीवन में चली आ रही परेशानियां समाप्त होना शुरू हो जाएंगी। शनि का अष्टम भाव में गोचर जो कि जनवरी से ही प्रारंभ हो जाएगा परिवारिक मामलों में कुछ नई समस्याओं का संकेत करता है। कुछ पैतृक जो विवाद चल रहे हैं उनको सुलझाने का कार्य करने की सलाह दी जाती है और सारे ही मामले अगर शांति से निपटाए जाएंगे तो जल्द सफलता मिलेगी।

स्वास्थ्य

इस वर्ष स्वास्थ्य के मामले में आपको कुछ विशेष ध्यान देने की जरूरत रहेगी। 17 जनवरी से शुरू हो रही शनि की ढैया कुछ मानसिक तनाव देगी। शनि की द्वितीय भाव पर दृष्टि कुछ कुटुंब के मामलों में विवाद के कारण आपका स्वास्थ्य प्रभावित हो सकता है। अष्टम भाव में शनि का गोचर वैसे तो बहुत निराशाजनक नहीं है लेकिन कुछ अचानक से होने वाली बीमारियां आपको परेशान कर सकती हैं।

आपके छठे भाव के स्वामी बृहस्पति इस वर्ष अप्रैल तक मीन में उसके पश्चात मेष राशि में रहेंगे इसका अर्थ है कि छठे भाव पर अप्रैल के बाद देवगुरु बृहस्पति की दृष्टि स्वास्थ्य के लिहाज से किसी बड़ी समस्या के ना बनने का संकेत करती है फिर भी कुछ सावधानियां रखनी चाहिए। योग व्यायाम नियमित रूप से करना चाहिए।

आर्थिक स्थिति

आर्थिक दृष्टिकोण से यह वर्ष अच्छा रहेगा। अष्टम भाव में शनि कुछ अचानक से होने वाले धन लाभ की तरफ संकेत कर रहे हैं, वहीं कुछ पारिवारिक संपत्ति के मामले इस वर्ष निपट सकते हैं। देवगुरु बृहस्पति का गोचर नवम और दशम भाव में रहेगा इससे भाग्य के प्रभाव से भी यह वर्ष आर्थिक मामलों में अच्छा जाएगा। अगर कोई प्रॉपर्टी में निवेश करना चाहते हैं या मकान लेना चाहते हैं तो यह वर्ष आपके लिए अच्छा रहेगा।

परीक्षा-प्रतियोगिता

कर्क राशि के छात्रों के लिए वर्ष की शुरुआत अच्छी रहेगी पंचम भाव पर देव गुरु बृहस्पति की दृष्टि कुछ अच्छी संभावनाओं का संकेत करती है। चौथे भाव में चल रहे राहु आपको कुछ मानसिक रूप से परेशान कर सकते हैं साथ ही शनि की ढैया वर्ष के प्रारंभ में ही शुरू हो जाएगी इसलिए एकाग्रता और अपनी पढ़ाई पर विशेष ध्यान देने की जरूरत होगी जो छात्र विदेश में दाखिले के लिए प्रतीक्षा कर रहे थे उनका सपना इस वर्ष पूरा हो सकता है।

उपाय

भगवान शिव को अक्षत अर्पित करें और शिवलिंग का अभिषेक करें। मंगलवार के दिन हनुमान चालीसा का पाठ करें और हनुमान जी के मंदिर में जाकर दर्शन करें।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button