राज्यराष्ट्रीय

चारा घोटाले में लालू प्रसाद यादव को 5 साल की सजा, पाए गए दोषी 139 करोड़ की अवैध निकासी का मामला

डोरंडा कोषागार से जुड़े एक चारा घोटाले में लालू प्रसाद यादव को 5 साल की सजा सुनाई गई है साथ में उनके ऊपर ₹700000 का फाइन की लगाया जा चुका है यह फैसला सीबीआई की स्पेशल कोर्ट के जज एसके सचिन ने सुनाया है और साथ ही में लालू प्रसाद यादव के वकीलों ने बताया कि आगे चलकर बेल के लिए अर्जी दी जाएगी लेकिन जब तक बिल नहीं मिल जाती तब तक लालू प्रसाद यादव को जेल में ही रहना पड़ेगा।

Advertisement

डोरंडा कोषागार घोटाला वह घोटाला है जो सारे घोटालों में सबसे बड़ा माना जाता है इस घोटाले में लालू प्रसाद यादव को मुख्य साजिशकर्ता बताया गया था साथ ही में सीबीआई की तरफ से यह भी कहा गया कि जब लालू प्रसाद यादव वित्त मंत्री मुख्यमंत्री थे तो तभी यह सारा घोटाला किया गया है यानी कि इस घोटाले की पूरी जानकारी लालू प्रसाद यादव के निगरानी में थी

आपको यह भी बताते चलें कि लालू प्रसाद यादव को चारा घोटाले से जुड़े 4 ब्लॉक में मुजरिम ठहराया जा चुका है जिसमें अभी तक लालू प्रसाद यादव बेल पर चल रहे हैं इसमें उनको हाई कोर्ट से जमानत भी मिली थी साथ ही में लोअर कोर्ट और ट्रायल कोर्ट ने उनको कोई भी मदद नहीं की बल्कि बाद में हाईकोर्ट में काट लें के बाद हेल्थ यीशु की गली देने पर उन्हें जमानत दे दी गई लालू प्रसाद यादव को यह जमानत 42 महीने जेल में काटने के बाद मिली थी।

Advertisement

यह मामला सामने आने के बाद इस पर राजनीति प्रतिक्रियाएं आना स्वभाविक थी जदयू नेता केसी त्यागी ने अपने एक बयान में कहा कि कोर्ट के इस फैसले का सबको सम्मान करना चाहिए और इसे राजनीतिक बदले यह किसी तरह की साजिश के रूप में नहीं लेना चाहिए किसी त्यागी ने अपने बयान में आगे कहा कि मुझे इस बात का बहुत ही अफसोस है कि लालू प्रसाद यादव नीतीश कुमार शरद पवार रामविलास पासवान और मैं भी जयप्रकाश नारायण के भ्रष्टाचार विरोधी आंदोलन का एक अहम हिस्सा रहे हैं लेकिन हम में से कोई भी आदमी अगर भ्रष्टाचार में घुस जाए तो यह बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण है।

डोरंडा कोषागार में कुल कितने लोग दोषी ठहराए गए थे?

आपको बताते चलें कि डोरंडा कोषागार घोटाले के मामले में कुल 170 आरोपी बनाए गए थे, इनमें से 55 लोगों की मौत हो चुकी है, 7 लोगों ने सरकारी गवाह बनने का फैसला ले लिया और दो लोगों ने अपना गुनाह कबूल कर लिया था जबकि 6 लोग अभी पुलिस की गिरफ्त से फरार है। इसके बाद  कुल 99 आरोपी बचे थे जिसमें से 24 को कोर्ट ने बरी कर दिया। जबकि 75 लोगों को दोषी साबित किया है।

लालू प्रसाद यादव को किस घोटाले में कितनी सजा सुनाई गई?

राष्ट्रीय जनता दल के प्रमुख लालू प्रसाद यादव को इस चारा घोटाले से जुड़े अन्य चार मामलों में पहले से ही दोषी ठहराया जा चुका है विचार मामले हैं दुमका देवघर और चाईबासा इनमें उनको कुल मिलाकर 14 साल की सजा हुई है और साथ ही में जुर्माने के तौर पर अब तक ₹600000 देने भी पड़े हैं।

Advertisement

आपको बताते चलें कि चाईबासा से जो पहला मामला था जिसमें 37 करोड़ की अवैध निकासी का आरोप था उसमें लालू प्रसाद यादव को 5 साल की सजा सुनाई गई थी देवघर कोषागार से 79 लाख का घोटाले में लालू प्रसाद यादव को 3:30 साल की सजा सुनाई गई फिर चाईबासा के दूसरे मामले में 33.1 300000 की अवैध निकासी में उन्हें 5 साल की सजा सुनाई गई थी फिर दुमका कोषागार मैं 3.13 करोड़ की निकासी के मामले में लालू प्रसाद यादव को 7 साल की और सजा सुनाई गई थी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
x