चुनाव

BJP प्रत्याशी ने दी धमकी कहा जो हमे वोट न दे, ओ गद्दार है, लोग बोले इसी क्या कर रहा है?

डुमरियागंज के भारतीय जनता पार्टी के विधायक श्री राघवेंद प्रताप सिंह ने एक बार फिर वावादित बयान दिया है। उनके विवादित बयान का वीडियो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है। उस वीडियो में राघवेंद्र प्रताप सिंह ने धमकी के लहजे में कुछ ऐसा बोला है कि”… इस बार मैं लोगो बता दूंगा कि राघवेंद्र सिंह कौन है। क्योंकि मैं गद्दारी सह लूंगा। मैं अपमान भी सह लूंगा। यदि आप मुझे अपमानित करोगे वो भी मैं सह लूंगा। लेकिन अगर हमारे हिन्दू समाज को अपमानित करने का सोचा करोगे तो मैं बर्बाद कर के रख दूंगा”

Advertisement

गौर तलब है कि इस भाषण के दौरान उनके समर्थकों के द्वारा लगातार जय श्रीराम का नारे भी लगाए जा रहा है, जिसे वीडियो में देखा और सुना गया है। राघवेंद्र प्रताप सिंह के भाषण का जो हिस्सा सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है, उससे ये साफ नहीं हो पा रहा कि वो किसको बर्बाद करने की धमकी दे हैं। लेकिन वीडियो के एक दूसरे हिस्से से इस बात की पुष्टि हो जाती है कि राघवेंद्र प्रताप सिंह की धमकी सिर्फ मुस्लिम समुदाय के लोगो के लिए है। इसी प्रकार से दूसरे वीडियो में भाजपा विधायक यह भी कह रहे हैं कि, ”बताओ कौनो मिया हमको वोट देयी। तुम ये जान लो कि इस गांव का जौन हिन्दू दूसरे तरफ जात बा। तो जान लो ओकरे अंदर मिया के खून दौड़त बा। वो गद्दार है। वो जयचंद की नाजायज औलाद है। वो अपने पिता की हरामखोर औलाद है। क्योंकि इतना आत्याचार होने के बाद भी हिन्दू समुदाय के लोगअगर दूसरे ओर जाते है तो unhe सड़क पर मुंह दिखाने लायक नहीं छोड़ना चाहिए।””.

इस बात पर यूपी के एक पत्रकार दीपक शर्मा ने भारतीय जनता पार्टी के इस विधायक पर कार्रवाई की मांग की है और लिखा है कि ”जो भाषा संसद के संविधान की नहीं है उस भाषा को चुनाव आयोग कैसे स्वीकार सकता है ? योगी आदित्य नाथ के दाहिने हाथ कहे जाने वाले भाजपा उम्मीदवार राघवेंद्र सिंह जो साम्प्रदायिक जहर मंच से घोल रहे हैं वो 2013 में हुए दंगो की भाषा से भी खतरनाक है। चुनाव आयोग इस वीडियो की फौरन फोरेंसिक जांच कराये और कारवाई करे”. दीपक शर्मा के ट्विट पर संज्ञान लेते हुए सिद्धार्थ नगर की पुलिस ने ये कहा है। चुनाव आयोग को टैग करते हुए सिद्धार्थ नगर पुलिस के आधिकारिक ट्वीटर हैंडल से यह लिखा गया है कि, ”संदर्भित प्रकरण का संज्ञान लिया गया है। प्रभारी निरीक्षक डुमरियागंज को बहुत उचित धाराओं में अभियोग पंजिकृत करने के लिए निर्देशित किया गया”

ये पहला केस नहीं है जब उन्होंने मुस्लिम समुदाय को धमकी दी हो। पहले भी राघवेंद्र प्रताप सिंह का ऐसा ही एक वीडियो वायरल हुआ था जिसमें वो सरे आम धर्म के नाम पर वोट मांगते और नफरत फैलाते आए थे। भाजपा विधायक श्रीराघवेन्द्रप्रताप सिंह ने यह भी कहा था कि यदि आप मुझे फिर से विधायक चुनते है तो मुसलमानों का टोपी पहनना बंद कर देंगे। मुसलमान अपने माथे पर तिलक लगाना भी शुरू करें देंगे और हिंदू समाज के लोगो सेसीताराम का अभिवादन करेंगे।उन्होंने दावा किया था कि जब से मुसलमानों को सत्ता से खदेड़ा गया है तब से हमारा शहर सुरक्षित हो गया। राघवेंद्र प्रताप सिंह के अनुसार ”अब कोई गुंडे, संगीन अपराधी सड़कों पर दिखाई नहीं देते हैं”

अपने भड़काऊ भाषण में भाजपा विधायक ने आगे यह भी कहा कि, ”जब से भारतीय जनता पार्टी सत्ता में आयी हैं, तब से उन्होंने बहुत सी जगह के नाम बदलने पर गर्व किया हैं। सूत्रों के हवाले से यह पता चला है कि अब से अल्लाहपुर का नाम बदलकर महेश योगी नगर हो गया है गया है, और हसीनाबाद को अब नन्दी चौक के नाम से जाना jayga और इसी तरह कई और स्थानों के नाम भी बदल दिए गए हैं।”

Advertisement

अपने एक विडियो में राघवेन्द्र प्रताप सिंह ने मुस्लिम समाज के लोगो को गाली देते हुए कहा कि, ”अरे हरामखोरे सुनो आज यहां भाषण दे रहा हूँ, कल तुम्हारा माइक चेक करवाऊँगा अगर परिमशन नहीं होगा तो तुम्हारे मस्जिद से माइक उतरवा दूँगा।”

राघवेन्द्र प्रताप सिंह ने लोगों से ”भगवा सरकार” बनाने के लिए अपील की और यह भी कहा कि ”पहले जब इफ्तारी का समय होता था तो डुमरियागनंज में जितनी सड़के हैं वे sb बंद कर दी जाती थी, चारो ओर गोल टोपी दिखाई देती थी। अब यह सब बंद है।” ध्यान देने की बात है कि राघवेंद्र प्रताप सिंह डुमरियागंज के सीटिंग विधायक हैं और एक बार फिर भाजपा के टिकट पर डुमरियागंज से चुनाव लड़ रहे हैं। डुमरियागंज में 3 मार्च को छठे चरण में मतदान होगा। समाजवादी पार्टी से सैय्यदा खातून, कांग्रेस से कांती पांडेय, और बसपा से अशोक कुमार तिवारी चुनाव लडेंगे.

Advertisement

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
x