ज़रा हट के

Onion-Garlic Ban: बिहार का वह गांव, जहां प्याज-लहसुन खाने ही नहीं खरीदने पर भी है पाबंदी

Onion-Garlic Ban: The village of Bihar, where there is a ban on not only eating onion-garlic but also buying

प्याज़ लहुसन यूं पौधों से मिलीएक सब्ज़ी है। लेकिन बहुत से लोग इसे धार्मिक कार्यों में इस्तेमाल नहीं करते. वह प्याज लहसुन को शाकाहारी नहीं मानते। यहां तक कि कुछ घरों में तो प्याज़ लहसुन के बरतन भी अलग होते हैं, अगर प्याज़-लहसुन का इस्तेमाल करके सब्ज़ी बनती है तो उसके बाद पूरे रसोई को स्वच्छ किया जाता है. ऐसी ही जगह की आज हम बात करेंगे…

Advertisement

इंडिया का एक गांव ऐसा भी

प्याज़ लहसुन का इस्तेमाल करने वाले लोग यही कहेंगे कि वह खाने के स्वाद को बढ़ा देता है. साधारण खाना तो अच्छा होता ही है, लेकिन प्याज़ लहसुन वाले खाने का भी कोई मैच नहीं है. इंडिया में एक ऐसा गांव भी है जहां का हर बच्चा संगीत सीखता है, एक गांव ऐसा है जहां हर घर में अध्यापक है. एक गांव ऐसा है जिसमें सभी IITians हैं. वहीं एक गांव ऐसा भी है जहां प्याज़ लहसुन खाना मना है? यह गांव बिहार के जहानाबाद ज़िले के चिरी पंचायत में स्थित है. जिसे त्रिलोकी बिगहा कहते हैं वैसे तो हर जगह के कुछ ना कुछ कायदे कानून होते हैं लेकिन यहां के नियम कुछ अजीब से है. यहां के लोग प्याज लहसुन का बिल्कुल भी इस्तेमाल नहीं करते। यहां तक कि यहां के लोग बाज़ार से प्याज़ लहसुन खरीदते भी नहीं है.

सदियों से इस्तेमाल नहीं किया जाता प्याज़ लहसुन

गांव में प्याज़ लहसुन न खाने से किसी को कोई दिक्कत भी नहीं है। सभी इस नियम का पालन करते हैं। गांव के बुज़ुर्गों का कहना है कि सदियों से इस गांव के लोगों ने प्याज़ लहसुन नहीं खाया. साथ ही साथ यहां के लोग शराब भी नहीं पीते।

Advertisement

प्याज़ लहसुन न खाने के पीछे वजह क्या है?

लोगों के मन में यह सवाल है कि आखिर इस नियम की वजह क्या है? India Today से बात करते हुए, रामप्रवेश यादव ने इस नियम की वजह बताई। उन्होंने कहा कि ‘लोगों ने यहां सदियों पहले प्याज़ लहसुन खाना छोड़ दिया क्योंकि यहां भगवान विष्णुन का मंदिर है. आज भी पुरखों द्वारा बनाया गया ये नियम लोग खुशी से मानते हैं.’

आज के समय में भी इस प्रथा का पालन कर रहे हैं लोग

आज के समय में भी इस प्रथा का पालन कर रहे हैं लोग
गांववालों ने बताया कि जिन लोगों ने भी प्याज़ लहसुन खाया, उनके साथ कुछ न कुछ बुरी घटना हुई। जब से यह मामला लोगों के सामने आया तब से इस गांव के लोगो ने पूरी तरह से प्याज़ लहसुन का सेवन छोड़ दिया। यही नहीं यदि कोई व्यक्ति गांव के बाहर भी जाता है तो वहां भी वह इस परंपरा का पालन करता है।

Advertisement

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
x